ब्रेकिंग न्यूज़

गोवा में मनोहर पर्रिकर की ताजपोशी पर सुप्रीम कोर्ट करेगा अहम सुनवाई

नई दिल्ली- गोवा के लिए रक्षा मंत्री की कुर्सी छोड़ने वाले मनोहर पर्रिकर क्या आज शाम मुख्यमंत्री पद की शपथ ले पाएंगे? सुप्रीम कोर्ट इस पर आज सुबह अहम सुनवाई करेगा। कांग्रेस ने कम सीटों के बावजूद सरकार बनाने के बीजेपी दावे को लोकतंत्र की हत्या करार देते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। दो जजों की बेंच आज सुबह 11 बजे इस याचिका पर सुनवाई करेगी। कांग्रेस इस मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट के साथ संसद में भी उठाने के मूड में है।

पर्रिकर के बाद फिर जेटली के पास रक्षा मंत्रालय

रविवार को मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में बीजेपी ने गोवा में अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया। गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पर्रिकर को गोवा के नए मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया। साथ ही उन्हें गोवा विधानसभा में बहुमत साबित करने को कहा है। यहां चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है।

गोवा में कांग्रेस 17 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। बीजेपी को 13 सीटें मिली हैं। बीजेपी अन्य दलों के साथ मिलकर 21 का जादुई आंकड़ा हासिल करने का दावा कर रही है। बीजेपी के मुताबिक उसे महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और निर्दलीय विधायकों (3) का समर्थन हासिल है।

वहीं सरकार गठन पर अपना पहला हक जता रही कांग्रेस बीजेपी पर हमलावर है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर गोवा में सत्ता के लिए छोटे दलों और निर्दलीय विधायकों को लुभाने को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘पैसे की ताकत ने जनता की ताकत पर विजय हासिल की है। मैं गोवा के लोगों से माफी मांगता हूं क्योंकि हम सरकार बनाने के लिए समर्थन नहीं जुटा सके।’ दिग्विजय सिंह ने कहा कि गोवा में पैसे की राजनीति और सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ कांग्रेस का संघर्ष जारी रहेगा।

उधर, वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि दूसरे नंबर पर आने वाली पार्टी को सरकार बनाने का कोई अधिकार नहीं है। साथ ही उन्होंने मणिपुर और गोवा में जोड़-तोड़ कर सरकार बनाने का आरोप लगाया। चिदंबरम ने ट्विटर के माध्यम से कहा, ‘दूसरे नंबर पर आने वाली पार्टी को सरकार बनाने का कोई अधिकार नहीं है। बीजेपी ने गोवा और मणिपुर में सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ की है।’

कांग्रेस विधायकों ने पार्टी नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया

गोवा में कांग्रेस विधायकों का एक समूह नाराज हैं और राज्य विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद सरकार बनाने में नाकाम रहने के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है। वालपोई विधानसभा से कांग्रेस विधायक विश्वजीत राणे ने कहा, ‘गोवा विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद मैं स्थिति से निपटने के लिए अपनी पार्टी नेताओं के तरीके से बहुत दुखी हूं। चुनाव परिणाम में सरकार बनाने के लिए हम सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरे हैं। पार्टी नेताओं के कामकाज पर निराश हूं, जो सही समय पर सही निर्णय नहीं ले सके।’उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं ने कांग्रेस विधायक दल का नेता का चयन करने में ‘देरी’ की और इसे जमीनी स्तर पर ‘कुप्रबंधन’ करार दिया।

Default Color Navbar Fixed / Normal Show / Hide background Image

Click the above buttons to see preview in this demo.