ब्रेकिंग न्यूज़

ये हैं अमरीका के ख़ुफ़िया एटमी ठिकाने

बीसवीं सदी में दुनिया ने क़रीब आधी सदी का वक़्त ज़बरदस्त डर के माहौल में बिताया. इसकी वजह थी अमरीका और सोवियत संघ के बीच शीत युद्ध.

1945 में दूसरे विश्व युद्ध के ख़ात्मे से पहले ही अमरीका और सोवियत संघ में तनातनी बढ़ गई थी. अमरीका ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर एटम बम गिराकर दुनिया को उसकी ताक़त और उसके ख़तरों का एहसास करा दिया था.

इसके बाद से ही अमरीका और सोवियत संघ में एटमी हथियारों की होड़ मच गई थी. दोनों एक से एक एटम बम और एटमी मिसाइलें बनाने में जुट गए थे. एक वक़्त ऐसा था जब दोनों देशों के पास इतने एटमी हथियार थे कि दुनिया को कई बार मिटाया जा सकता था.

उस दौर में अमरीका और सोवियत संघ, दोनों ने कई ख़ुफ़िया एटमी ठिकाने बनाए हुए थे. जहां पर बड़ी-बड़ी न्यूक्लियर मिसाइलें छुपाकर रखी गई थीं. दोनों ही देश एक-दूसरे के इन ख़ुफ़िया एटमी ठिकानों को जानते थे. इसलिए चाहे कोई भी देश पहले हमला करता, पूरी दुनिया का तबाह होना तय था.

ये ख़ुफ़िया एटमी ठिकाने ही दुनिया की तबाही की वजह बनते. चलिए आज आपको अमरीका के ख़ुफ़िया एटमी ठिकाने की सैर पर ले चलते हैं.

Image copyrightCHRIS HINKLE

ये न्यूक्लियर बेस, अमरीका के एरिज़ोना सूबे में टक्सन नाम के शहर के क़रीब रेगिस्तानी इलाक़े में था. मेक्सिको की सीमा से ये जगह महज़ कुछ किलोमीटर दूर थी. ऊपर से देखने पर किसी को बिलकुल भी एहसास नहीं हो सकता था कि ज़मीन के नीचे दुनिया की तबाही का सामान छुपा है.

इस न्यूक्लियर बेस पर तैनात रहीं इवोन मॉरिस बताती हैं कि सोवियत संघ को तो पक्का इस जगह के बारे में पता रहा होगा. मगर उनके अपने देश में, यहां तक कि टक्सन शहर के लोगों को भी भनक नहीं रही होगी कि यहां न्यूक्लियर बेस है. इवोन, यहां 1980 से 84 तक तैनात रही थीं.

वो बताती हैं कि इस एटमी बेस में जाने के लिए तहखानों की कई सीढ़ियों से गुज़रना होता था. जिस दौरान उन्हें कई बार सुरक्षा कोड बताना होता था. इस दौरान वो लगातार कैमरे की निगरानी में रहती थीं ताकि कहीं ऐसा न हो कि बंदूक की नोक पर कोई ज़बरदस्ती एटमी बेस के भीतर घुस आए.

Image copyrightCHRIS HINKLE

इवोन कहती हैं कि ऐसे ख़ुफ़िया एटमी ठिकानों का मक़सद था दुश्मन को डराकर तीसरा विश्व युद्ध छेड़ने से रोकना. मगर, यहां पर दुनिया की तबाही का अच्छा-ख़ासा सामान जमा था. इस न्यूक्लियर बेस पर अमरीका की टाइटन 2 एटमी मिसाइलें रखी गई थीं. ये मिसाइलें क़रीब सात मंज़िल ऊंची थीं. इनमें इतनी ताक़त थी कि पलक झपकते ही सोवियत संघ का सफ़ाया हो जाता.

अगर सोवियत संघ पहले एटमी मिसाइल से अमरीका पर हमला करता तो इवोन और उनके साथियों के पास सिर्फ़ तीन मिनट होते जवाबी हमला करने के लिए. इस दौरान उन्हें सीढ़ियों से भागकर एटमी बेस के कंट्रोल रूम में जाना था. वो अकेले वहां नहीं जा सकती थीं. उनके साथ एक और साथी होता. दोनों को कई बार सिक्योरिटी चेक का सामना करना पड़ता.

Image copyright

इसके बाद भी दोनों को मिसाइल लॉन्च के ऑर्डर का मिलान फ़ोन पर एक कोड डायल करके लेना होता. फिर राष्ट्रपति से मिसाइल लॉन्च का जो आदेश कोड के तौर पर आता, उसे इवोन और उनका दूसरा साथी मिलाता. कम से कम तीन बार कोड का मिलान करने के बाद ही इवोन और उनके साथी एटमी मिसाइल लॉन्च कर सकते थे और इसके लिए उनके पास सिर्फ़ तीन मिनट का वक़्त होता.

इवोन बताती हैं कि एटमी बेस की सुरक्षा कुछ ऐसी थी कि कोई एक शख़्स अकेले न तो कंट्रोल रूम में जा सकता था और न ही वो मिसाइल लॉन्च कर सकता था. ऐसा इसलिए किया गया था ताकि किसी एक शख़्स की सनक की वजह से दुनिया तबाही के रास्ते पर न चल पड़े.

1960 से 1984 तक टक्सन शहर में 18 टाइटन 2 न्यूक्लियर मिसाइलें तैनात थीं. इवोन बताती हैं कि उन्हें उस जगह तक ले जाया गया था जहां मिसाइलें रखी गई थीं. उस जगह को 'सिलो' कहते हैं. जब इवोन पहली बार इस न्यूक्लियर बेस पर पहुंची थीं तो कमांडर ने उन्हें पूरा बेस दिखाया था.

Image copyright

वहां इवोन ने देखा था कि मिसाइल के निर्माता का नाम अमरीका की मशहूर कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक लिखा हुआ था. उस वक़्त जनरल इलेक्ट्रिक अपने विज्ञापन में कहती थी कि वो लोगों तक दुनिया की अच्छी चीज़ें लेकर आती है. मगर टाइटन 2 तो तबाही का सामान थी. बस यही सोचकर इवोन को हंसी आ गई थी.

अमरीका के इस ख़ुफ़िया एटमी बेस पर तैनात लोग चौबीसों घंटे की शिफ़्ट में काम करते थे. कोई भी शख़्स कभी अकेले नहीं हो सकता था. कोई न कोई हमेशा साथ में रहता था. शिफ़्ट ख़त्म होने से पहले सबको वैक्यूम क्लीनर से कालीन साफ़ करना होता था. इस वैक्यूम क्लीनर को भी कोई न तो अकेले निकाल सकता था और न ही इस्तेमाल कर सकता था. ऐसा सुरक्षा के लिहाज़ से किया गया था.

इवोन बताती हैं कि बेस में तैनात कोई एक शख़्स अकेले तीसरा विश्व युद्ध नहीं शुरू कर सकता था.

इवोन से जब पूछा गया कि क्या वो मिसाइल लांच कर देतीं? तो, उनका जवाब होता है कि आदेश मिलने पर वो पक्का ऐसा करतीं क्योंकि ये आदेश तभी मिलता जब सोवियत संघ ने अमरीका पर एटमी मिसाइल फेंक दी हो.

Image copyright

ऐसे में इवोन का कहना है कि उनके परिवार का मरना तय था. वो ख़ुद भी नहीं जी पातीं क्योंकि सोवियत संघ को इस ख़ुफ़िया एटमी बेस के बारे में भी पता था तो वहां भी हमला होता ही. इसीलिए वो मरने से पहले सोवियत संघ पर मिसाइल फेंककर उसे भी तबाह ज़रूर कर जातीं क्योंकि टाइटन 2 मिसाइल को लॉन्च करने में उन्हें केवल 58 सेकेंड लगने थे.

अमरीका और सोवियत संघ दोनों को मालूम था कि एटमी हमले की सूरत में दुनिया का तबाह होना तय है. इसी वजह से तबाही का सामान कही जाने वाली इन मिसाइलों ने दुनिया को अब तक तीसरे महायुद्ध से बचाए रखा है.

हालांकि अब ये ख़ुफ़िया एटमी बेस, एक म्यूज़ियम में तब्दील कर दिया गया है. इवोन यहां की निदेशक हैं. वो लोगों को इस ख़ुफ़िया न्यूक्लियर बेस की सैर कराती हैं. वो जगह दिखाती हैं जहां मिसाइलें रखी गई थीं. पुराने कंप्यूटर और कंट्रोल रूम लोगों को दिखाती हैं.

इवोन कहती हैं कि ये म्यूज़ियम लोगों को तकनीक की ताक़त का एहसास कराता है. ये बताता है कि इससे कितनी भारी तबाही मच सकती है.

Default Color Navbar Fixed / Normal Show / Hide background Image

Click the above buttons to see preview in this demo.